सुना है कि गिरिराज भाई आजकल दुखी टाइप हो रहे हैं और इसी हालत में वो अजीब-अजीब दार्शनिक बातें कर रहे हैं। नहीं-नहीं सरकार कविता लिखने पर प्रतिबंध नहीं लगाने जा रही। इसका कारण फुरसतिया भाईसाहब बता रहे हैं। तो फिर गिरिराज भाई नालायक मन को कोसने में लगे हैं। अब हमारा फर्ज बनता है कि ऐसे मैं हम ऑपरेशन गिरिराज भाई को हँसाना है चलाएं। इसी श्रृखंला की पहली कड़ी में मैं आपको एक पुरानी घटना सुनाता हूँ। इस श्रृँखला को कोई भी आगे बढ़ा सकता है। (सागर भाई सुन रहे हैं ना)

एक बार पंडित जी और कविराज बातें कर रहे थे। पंडित जी – अरे यार पता है एक बार मैं जब घनघोर जंगल से जा रहा था तो मुझे डाकुओं ने घेर लिया और मेरी घडी़, चेन, बटुआ सब लूट लिया। कविराज – लेकिन आपके पास पिस्तौल भी तो थी। पंडित जी – हाँ लेकिन शुक्र है उस पर उनकी नजर नहीं पड़ी

कविराज – अब मेरी सुनो, एक बार मुझे भी रामगढ़ गाँव में डाकुओं ने घेर लिया। डाकुओं का सरदार गब्बर सिंह बोला – यहाँ से ५ मील…, जो कुछ है हमारे हवाले कर दो। कविराज – तुम मुझे जानते नहीं। गब्बर सिंह – कौन हो तुम। कविराज – यहाँ से १० मील दूर किसी गाँव में जब भी कोई बच्चा रोता है तो माँ कहती है बेटा सो जा, सो जा नहीं तो कविराज आ जाएगा। अब तुम यहाँ से खिसकते हो या कविता सुनानी शुरु करुँ…

कहते हैं डाकू गब्बर सिंह दुबारा रामगढ़ में नहीं दिखाई दिया। Giggle

Advertisements

दो दिनों से घर से बाहर था। आकर पता चला कि मुझे ‘उदीयमान चिट्ठाकार २००६’ के प्रथम चरण के १२ उम्मीदवारों में चुन लिया गया है। चिट्ठाजगत में आये हुए मुझे अभी २ महीने ही हुए हैं दूसरे शब्दों में कहूँ तो मुझे अभी पूरा मौका भी नहीं मिला। लेकिन फिर भी निर्णायक मंडल ने मुझे इस योग्य समझा इस हेतु मैं उनका आभार व्यक्त करता हूँ। वरिष्ठ चिट्ठाकार अनूप भाईसाहब द्वारा कही गई ये पंक्तियाँ भी मेरे लिए इनाम से कम नहीं हैं।

ई-पंडित के नाम से अपना चिट्ठा लिखने वाले श्रीश सबसे नये चिट्ठाकारों में से होने के बावजूद अपने दनादन लेखन से चिट्ठाजगत में काम भर की हलचल मचा चुके हैं। शुरुआती दिनों में श्रीश ने अपना काफी समय अपने नाम की वर्तनी समझाने में लगाया लेकिन लोग हैं कि समझते ही नहीं। अपने देर से लिखना शुरू करने की भरपाई वे ढेर सारे लेखन से कर रहे हैं। तकनीकी लेखन के अलावा हास्य, गंभीर और विचारोत्तेजक लेख लिखकर श्रीशजी मात्र दो माह में एक लोकप्रिय चिट्ठाकार बन चुके हैं। वे अक्सर अपने पाठकों को चुटकुले सुनाकर उनका मनोरंजन भी करते रहते हैं।

यह प्रतियोगिता तो चिट्ठाकारों में आपसी भाईचारा और संवाद बढ़ाने का एक बहाना है। हार-जीत मायने नहीं रखती। वरिष्ठ चिट्ठाकारों द्वारा नए चिट्ठाकारों का उत्साहवर्धन हेतु यह उत्तम उपाय किया गया है। उम्मीद करता हूँ भविष्य में आप लोग इसी तरह मेरा हौंसला बढ़ाते रहेंगे।

Happy New Year

सम्पूर्ण चिट्ठाजगत को मेरी ओर से नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं !

भगवान करे यह वर्ष आप सब के जीवन में अनंत खुशियाँ लेकर आए तथा आप निरंतर जीवन-पथ पर उन्नति करें।

Happy New Year 2007

अब आप रेडियो-झूठिस्तान 420FM से ताजे समाचार सुनिए:

  • घर वालों की शिकायत तथा अपने डुप्लीकेट से तंग आकर जीतू भाई ने चिट्ठाकारी बंद करने का फैसला किया है। कुवैत सरकार ने एक बयान जारी कर इस फैसले पर खुशी जताई है
  • प्रतीक पांडे जी ने सुंदरियों का मोह त्यागकर संन्यास ले लिया है। अब वे ‘टाइमपास’ बंद कर तपस्या करने हेतु हिमालय प्रस्थान करेंगे।
    (अपडेट – सुना है कि इन्द्र उनकी तपस्या भंग करने हेतु कुछ हॉट अप्सराओं को भेजने की तैयारी कर रहे हैं)
  • व्यंग्यराज फुरसतिया महाराज ने टाइपिंग के झमेले से तंग आकर अबसे केवल हायकू लिखने का निर्णय लिया है। उनकी जगह उनके ‘किंग साइज’ व्यंग्य अब आलोक भाई लिखेंगे।
  • एक अत्यंत गोपनीय खबर पता चली है कि स्टार टिप्पणीकार संजय भाई ने एक प्रोग्राम बनाया है जो सबके चिट्ठों पर जाकर स्वतः ही विषयानुसार टिप्पणी कर देगा। उन्होंने आज से इसका परीक्षण भी शुरु कर दिया है। यह आमतौर पर किसी भी पोस्ट पर पहली टिप्पणी करता है।
  • डुप्लीकेट जीतू नामक वायरस का नया वर्जन Duplicate Jitu 2.0 कल रात से जारी हो गया है तथा बहुत तेजी से फैल रहा है। इसकी विशेषता है कि यह दो टिप्पणियाँ करता है जिसमें से दूसरी वाली कुछ इस तरह से होती है:
    ऊपर वाली टिप्पणी मेरी नहीं है। Please avoid it.

शेष समाचार दूसरे बुलेटिन में …

डोंट टेक इट अदरवाइज़, ईस्माईली इज़ अटैच्ड। Hysterical

Bruce Lee

ब्रूस ली की फिल्में बचपन में सभी ने देखी होंगी और मेरी तरह पसंद भी करते होंगे लेकिन क्या आपको पता है कि ब्रूस ली हिंदुस्तानी था, यकीन नहीं आया तो ये पढि़ए:

  • ब्रूस ली की पसंदीदा सब्जीMu Lee
  • ब्रूस ली खाना किसमें खाता थाTha Lee
  • थियेटर में क्या होता है जब ब्रूस ली की फिल्म खत्म होती हैKha Lee
  • ब्रूस ली की सिस्टर-इन-लॉ का नामSaa Lee
  • ब्रूस ली का पसंदीदा नाश्ताId Lee
  • ब्रूस ली का पसंदीदा त्यौहार Diwa Lee
  • ब्रूस ली की पसंदीदा अभनेत्रीSona lee
  • ब्रूस ली का पसंदीदा संगीतQawa lee
  • ब्रूस ली अक्सर कौन सा काम करता थाCoo Lee
  • ब्रूस ली कब मराFinal Lee
  • ब्रूस ली कैसे मराwith a Go Lee
  • ब्रूस ली का पसंदीदा हिल स्टेशनKulu Mana Lee
  • ब्रूस ली का निकनेमMawa Lee
  • ब्रूस ली की पसंदीदा हिन्दी फिल्मGharwa LEE Baharwa LEE
  • ब्रूस ली का पसंदीदा क्रिकेटरSaurav Gangu Lee

तो भाई लोग क्या बोलते हो था ब्रूस ली हिन्दुस्तानी या नहीं ?

अगर तुम सोच रहे हो कि मुझे ये सब कैसे पता तो सुनो पिछले जन्म में Bruce Lee मेरा भाई था, मेरा नाम था – Shrish LEE

संबंधित कड़ियाँ:

IMDb पर ब्रूस ली
विकीपीडिया पर ब्रूस ली
फ्लिकर पर ब्रूस ली की कुछ चुनिंदा फोटो

आज एक स्माईली मेरेको मिलने कू आया। मैं बोला कईसा है रे तो बोला क्या बताऊं जी बोत टेन्शन में हूँ। मैंने कहा कायकू भाई आजकल तो तू बोत हिट होरेला है जिसको देखो वई स्माईलगिरी कर रेला है। बोला यई तो लोचा है बाप जबसे वो उड़नस्वामी ने लोगों को अन्यथा नई लेने को बोला है मेरी तो वाट लग गई है। मैं बोला अबे तू तो पोपुलर हो गया यार मैं तो बोलता हूँ आज लास्ट दिन है तू भी चिट्ठा लिखना शुरु कर और चुनाव में खडा़ हो जा। बोला खालीपीली कायकू लेरे ओ बाप, वर्क-लोड एकदम बढ़ गया है, भाई लोग मेरे को सांस नी लेने देरे खासकर टिप्पणियों में। कोई उपाय बताओ ना पंडित जी। मैं बोला ठीक है भाई अपुन ट्राई करता है आगे भाई लोगों की मर्जी। तो भाई लोग आज की क्लास में अपुन बताएगा कि स्माईलगिरी कैसे करने का है।

स्माईलियों का इतिहास भूगोल बताकर बोर नहीं करुंगा जिन को जानना हो नीचे दी गई कड़ियों पर जाएं। स्माईली दो प्रकार के होते हैं – टेक्स्ट तथा ग्राफिक। मैं यहाँ सिर्फ ग्राफिक स्माईली दे रहा हूँ (बिना Quotes के प्रयोग करें)। मेरे विचार से ब्लॉगर ग्राफिक स्माईली नहीं दिखा सकता।

🙂 =”:)” या “:-)” या “:smile:”
😀 = “:D” या “:-D” या “:grin:”
😦 = “:(” या “:-(” या “:sad:”
😮 = “:o” या “:-o” या “:eek:”
😯 = “8O” या “8-O” या “:shock:”
😕 = “:?” या “:-?” या “:???:”
8) = “8)” या “8-)” या “:cool:”
😡 = “:x” या “:-x” या “:mad:”
😛 = “:P” या “:-P” या “:razz:”
😐 = “:|” या “:-|” या “:neutral:”
😉 = “;)” या “;-)” या “:wink:”
😆 = “:lol:”
😳 = “:oops:”
😥 = “:cry:”
👿 = “:evil:”
😈 = “:twisted:”
🙄 = “:roll:”
❗ = “:!:”
❓ = “:?:”
💡 = “:idea:”
➡ = “:arrow:”
:mrgreen: = “:mrgreen:”

फोरमों के मामले में कुछ स्माईली सभी फोरमों के लिए काम नहीं करते। परिचर्चा के लिए स्माईली कोड यहाँ पर दिए गए हैं।

फायरफॉक्स में स्माईली ही स्माईली:

फायरफॉक्स के लिए Smiley Xtra नामक एक्सटेंशन यहाँ से डाउनलोड तथा इंस्टाल करें। इससे Smiley Xtra का आइकॉन फायरफॉक्स के टूलबार पर आ जाएगा।

इस पर क्लिक करने से यह साइडबार में खुल जाएगा।

चिट्ठे पर स्माईली लगाने के लिए HTML एडीटर में जाकर Smiley Xtra के साइडबार में बायें से चौथा आइकॉन तथा परिचर्चा आदि फोरम के लिए पोस्ट एडीटर में जाकर बायें से तीसरा आइकॉन क्लिक करें। इससे क्रमशः HTML तथा BBCode इन्सर्ट हो जाएगा।

विंडोज लाइव राइटर में Spaces Emoticon:

विंडोज लाइव राइटर के लिए Insert Spaces Emoticon प्लग‍इन यहाँ से डाउनलोड तथा इंस्टाल करें। अब WLW में Insert मीनू में जाकर A Spaces Emoticon… पर क्लिक करें।

जिससे नीचे वाली विंडो खुल जाएगी।

बस अपनी पसंद का स्माईली चुनिए और OK क्लिक करिए।

तो भाईलोग स्माईलगिरी करो बिंदास होके। Celebrating

संबंधित कडियाँ:

Smiley के बारे में विकीपीडिया पर
Emoticon के बारे में विकीपीडिया पर
Using Smilies « WordPress Codex

लो जी हम बेकार ही रश्क़ कर रहे थे कि क़ाश पीटर हमारी पाठशाला में होता। अभी मालूम पड़ा पीटर जैसे कई ‘मेधावी’ छात्र मेरे चेले हैं। आजकल हरियाणा के विद्यालयों में प्री-बोर्ड की परीक्षाएं चल रही हैं। अब इस बार से हमारे शिक्षा बोर्ड ने सेमेस्टर प्रणाली लागू की है। प्रथम सेमेस्टर की परीक्षाएं अभी सितम्बर में हुई थीं जिस कारण द्वितीय सेमेस्टर का सिलेबस अभी पूरा नहीं हो पाया। लेकिन इन प्री-बोर्ड परीक्षाओं में पूरा ही सिलेबस आना था तो जो सिलेबस अभी नहीं हुआ था उसके प्रश्न बच्चों ने अपनी बुद्धि से दिए। उनकी ‘इनोवेटिव थिंकिंग’ देखकर एक ही बात समझ आती है – ‘यथा गुरु तथा चेला’। लीजिए आप भी कुछ नमूने देखिए। मेरे पास स्कैनर नहीं है इसलिए टाइप कर के पोस्ट कर रहा हूँ वरना ज्यादा अच्छा रहता।

प्रश्न: जनन किसे कहते हैं ? जनसंख्या वृद्धि रोकने के कुछ उपायों का वर्णन करो।

उतर: बच्चे पैदा होने को जनन कहते हैं। लड़का पैदा होने को लोग अच्छा समझते हैं पर ये ठीक बात नहीं है। ज्यादा बच्चे नहीं होने चाहिए, इससे बेरोजगारी बढ़ती है जिससे कई लोग तो भूखे सोते हैं। जनसंख्या रोकने के लिए कुछ उपाय निम्न हैं:

  • हमें जनसंख्या पर रोक लगानी चाहिए।
  • हमें लोगों को उत्साहित करना चाहिए कि वे ज्यादा बच्चे पैदा ना करें।
  • एक या दो बच्चों से अधिक बच्चे ना करें।
  • शादी से पहले बच्चे नहीं करने चाहिए।
  • बच्चों को भी ये बात समझानी चाहिए कि वो भी ज्यादा बच्चे पैदा ना करें।
  • आजकल लोगों को महंगाई में तो बच्चे देख के पैदा करने चाहिए।

(काश ये उपाय भारत सरकार को पता होते तो आज इतनी जनसंख्या न होती)

प्रश्न: रंगीन काँच किस प्रकार बनाया जाता है ?

उतर: रंगीन काँच बनाने के लिए काँच को पिघलाकर उसमें अनेक प्रकार के रंग मिलाकर रंगीन काँच बनाया जाता है।
(इटस सो सिम्पल यार) 😉

प्रश्न: वायु में सीसे के क्या स्त्रोत हैं ? इससे क्या हानियाँ हो सकती हैं ?

उतर: जब कहीं काँच आदि टूट जाए तो वायु में सीसे कण फैल जाते हैं। ये बहुत बारीक होते हैं जो सांस के साथ अंदर चले जाते हैं। जिसके ऊपर गिर जाए उसका तो बीमार होना निश्चित है। इससे आदमी मर भी सकता है।
(हे भगवान मुझे पता नहीं था आगे से सावधान रहूँगा)

प्रश्न: विद्युत-धारा से क्या तात्पर्य है ? इसके उपयोग लिखो।

उतर: बिजली की तार में जो होता है उसको विद्युत-धारा बोलते हैं। इसको छूने से करंट लगता है। इससे सब बिजली की चीजें चलती हैं जैसे पँखा, बल्ब, टीवी आदि। छोटे बच्चों को इससे दूर रखना चाहिए। करंट लगने से मौत भी हो सकती है।
(एकदम सही फरमाया है न)

प्रश्न: खेत की तैयारी किसे कहते हैं ? इसके क्या लाभ हैं ?

उतर: खेत में फसल उगाने के लिए जो भी काम करते हैं उसे खेत की तैयारी कहते हैं। खेत में उगाई गई फसल को काटने के बाद हमें खेत को खाली छोड़ देना चाहिए। अगर उसमें एक ही बीज बो‍ओगे तो हमारे खेत की मिट्टी मर जाएगी। इसलिए हमें आए साल उसमें दाल, गन्ना, आलू जैसे कई प्रकार के फसल लगानी चाहिए। खाद भी गेरनी चाहिए इससे खेत में जान आती है।

(गांव का बच्चा था अपना पूरा ज्ञान बांट दिया) 🙂

प्रश्न: कोक के दो उपयोग लिखो।

उतर: कोक के निम्नलिखित उपयोग हैं:

  • माँ अपनी कोक से बच्चे को जन्म देती है।
  • और उसे दूध भी पिलाती है।
  • दुकानदार इसको आइसक्रीम और केक में डालते हैं।
  • कोक का उपयोग कोका-कोला में भी होता है।

(रामदेव बाबा को जाकर बताओ भाई कोई, नाहक कोक को बदनाम करते हैं) 🙂

अब आप ही बताओ भाई, सब कुछ तो ‘सही’ लिखा है। कुछ गलत लिखा हो तो बोलो। हम नंबर दें या न दें ?Thinking 2

कल चिट्ठा-चर्चा से पता लगा कि तरकश पर ‘वर्ष २००६ का चिट्ठाकार’ के लिए चुनाव होने जा रहे हैंतीन दिन की कैद में थे तो पता ही नहीं चल पाया खैर अभी भी आचार संहिता लागू नहीं हुई है इसलिए सोचा अपना घोषणा-पत्र लिख ही डालें।भाईयों और बहनों आने वाली २२ तारीख को ‘वर्ष २००६ का चिट्ठाकार’ का चुनाव होने जा रहा है। इस चुनाव में आप सब के अपने युवा उम्मीदवार श्रीश शर्मा ‘ई-पंडित’ जी भी ‘भारतीय ब्लॉगर पार्टी’ की तरफ से चुनाव लड़ रहे हैं। जिनका चुनाव निशान ‘ई-पाठशाला’ है। यह मेरी खुशकिस्मती है कि हमारे पार्टी अध्यक्ष माननीय़ ‘भ्रष्टाचार प्रसाद’ जी ने मुझे इस योग्य समझा तथा खुड्डेलाइन चुनाव क्षेत्र से टिकट दिया। चुनाव में जीतने पर हमारे पार्टी द्वारा निम्नलिखित कार्य कराये जाएंगे:

  • ब्लॉगजगत की गलियों, नालियों और सड़कों को पक्का करवाया जाएगा। इस कार्य हेतु ठेकेदार ‘खाऊपीऊ प्रसाद’ से एडवांस में बात कर ली गई है।
  • हमारी पार्टी के सता में आने पर सभी ब्लॉगरों को २४ घंटे बिजली मुफ्त दी जाएगी ताकि वे निश्चिंत होकर ब्लॉगिंग कर सकें। (हाँ बिजली कितनी देर आएगी इसकी गारंटी हम नहीं दे सकते)। इस बारे में कोई समस्या होने पर हमारे (होने वाले) बिजली-मंत्री ‘झट्का प्रसाद’ से संपर्क कर सकते हैं।
  • नये ब्लॉगरों के लिए आने वाले साल में हमारी पाठ्शाला में विशेष कक्षाएं लगायीं जाएंगी। जिसमें वर्डप्रैस.कॉम के लिए विशेष पाठ्यक्रम शामिल होगा। इसके अतिरिक्त विंडोज तथा अंर्तजाल से संबंधित कार्यक्रम चलते रहेंगे। हमें वोट देने वालों के अटेंडेंस शॉर्ट नहीं किए जाएंगे। ;)
  • इस कार्य हेतु वरिष्ठ चिट्ठाकारों से मार्गदर्शन लिया जाएगा इससे उन्हें भी शिष्यतत्व सुख हासिल होगा। इसके लिए उन्हें ईमेल द्वारा दुखी किया जाएगा संपर्क किया जाएगा।
  • मुझे जिताने वाले सभी लोगों के चिट्ठों पर भरपूर टिप्पणियां की जाएंगी इसके लिए हमारे स्टार टिप्पणीकार संजय भाईसाहब की सेवाएं ली जाएंगी। (जीतू भैया का वोट तो पक्का हो गया) ;)
  • मुझे वोट देने वाले लोग अपने मतलब की समीक्षाएं प्रायोजित करवा सकेगें। इस के लिए उनसे कोई शुल्क नहीं लिया जाएगा। इस बारे में हमारे सेकेट्री ‘सुस्तराम’ आपकी मदद हेतु उपलब्ध रहेंगे।
  • हमें वोट देने वाले सभी चिट्ठाकारों को नित्यप्रति सुंदरियों के दर्शन हेतु प्रतीक भाई जी से हमारी सरकार विशेष कांट्रेक्ट करेगी ;) और वोट न देने वालों को समीरलाल जी, कविराज जोशी जी आदि कवियों के साथ एक कमरे में बंद कर दिया जाएगा। P (स्माईली लगा दिया है हे-हे)

स्कूल जाने का समय हो गया है। अभी और भी है आकर लिखता हूँ …

  • सभी सामुदायिक साइटों जैसे कि नारद, चिट्ठाचर्चा आदि पर नये ब्लॉगरों को ५०% तथा महिलाओं को ३३% आरक्षण दिया जाएगा। इस बारे में हमारी ब्लॉगर संसद परिचर्चा में जल्द ही एक विधेयक लाया जाएगा। (अत: ये लोग भी हमें वोट दें) ;)
  • बेरोजगार चिट्ठाकारों (अर्थात जिनके चिट्ठे कोई पढ़ता नहीं, टिप्पणी नहीं करता) के लिए सामूहिक चिट्ठे (ग्रुप ब्लॉग) शुरु किए जाएंगे। इसका लाभ यह होगा कि कम से कम ग्रुप के ब्लॉगर तो चिट्ठा पढ़ेंगे और टिप्पणी करेंगे। ;)
  • सभी चिट्ठाकारों हेतु मुफ्त स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध करवायी जाएंगी। इस हेतु हमारे डॉक्टर प्रभात टंडन जी का क्लीनिक २४ घंटे खुला रहेगा। हाँ यह ठीक से बता देना कि कान साफ करवाना या कुछ और। जिन्हें नींद न आने की बीमारी हो उनके लिए स्पेशल काव्य गोष्ठियों का आयोजन किया जाएगा। 🙂 (स्माईली अटैच है जी)
  • सागर भाईसा तथा अन्य जो भी हँसना चाहें उनके लिए अनुगूँज का आयोजन करवाया जाएगा। यह कार्य व्यंगराज फुरसतिया जी के तत्वाधान में होगा। (सागर भाई तथा जोशी जी का वोट पक्का) ;)
  • जीतू भाई के डुप्लीकेट को पकड़ने हेतु विशेष कार्य बल (Special Task Force) का गठन किया जाएगा। वीरप्पन को मारने वाले ऑफीसर को इसका हेड बनाया जाएगा। (जीतू भाई वोट पक्का है न) P
  • अंत में, सभी वोट देने वालों को एक-एक बोतल धन्यवाद तथा एक-एक गड्डी टिप्पणियाँ (स्माईली के साथ) दी जाएंगी। 🙂

वोटिंग का तरीका बताने हेतु समीरलाल जी ने पोस्ट लिखी है पर पूर्णं विधि गिरिराज जी ने अपने चिट्ठे पर लिखी है जिसे साभार प्रकाशित किया जा रहा है।

आज की इस क्लाश में मैं आपको सिखाऊँगा कि तरकश पर 2006 के सर्वश्रेष्ठ चिट्ठाकार को नोमिनेट कैसे करें –

  1. सबसे पहले अपना ई-मेल अकाउण्ट खोले.
  2. अब To वाले टेक्सट बॉक्स में contact@tarakash.com लिखें.
  3. Subject में “2006 के सर्वश्रेष्ठ चिट्ठाकार के लिए नोमिनेशन” लिखें.
  4. Body वाले भाग में यह लिखें –
    मैं 2006 के सर्वश्रेष्ठ चिट्ठाकार के रूप में इन दो चिट्ठाकारों को नोमिनेट करता हूँ –
    1. श्रीश
    2. ई-पंडित
    और Send पर क्लिक कर दें, आपका काम हो जायेगा.

जो भाई ‘नोमिनेशन एक्सचेंज’ के इच्छुक हों वे हमारे ईमेल पर संपर्क करें। नहीं समझे क्या ‘तू मेरी पीठ खुजा में तेरी खुजाता हूँ’। ;)

नोट: सभी प्रकार का भुगतान टिप्पणियों के द्वारा ही किया जाएगा अन्य कोई मुद्रा नहीं चलेगी ;)। किसी भी प्रकार का विवाद होने पर न्यायक्षेत्र केवल परिचर्चा होगा।

तो भाईयों आने वाली २२ तारीख को आपके अपने उम्मीदवार श्रीश जी को उनके चुनाव निशान ‘ई-पाठशाला’ पर मुहर लगाकर का बटन दबाकर भारी मतों से विजयी बनायें। चुनाव केंद्र है तरकश.कॉम। याद रहे चुनाव-चिन्ह ‘ई-पाठशाला’, ‘ई-पाठशाला’, ‘ई-पाठशाला’। P

भारतीय ब्लॉगर पार्टी जिन्दाबाद ! जिन्दाबाद !
भाई भ्रष्टाचार प्रसाद जी जिन्दाबाद ! जिन्दाबाद !

जाने से पहले जरा गला तर कर लीजिएगा और हाँ ब्राँड इंग्लिश है भईया ध्यान रखना हमारा।

यद्यपि हो सकता है गंणितीय रुप से यह मुर्खतापूर्ण लगे लेकिन Equation ‘expand‘ करने का यह एकदम सही तरीका है।

How to expand an Equation, originally uploaded by imShrish.